झारखंड : भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने आज प्रदेश मुख्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा एक तरफ तथाकथित रूप से झारखंड के प्राकृतिक संसाधनों के दोहन का विरोध करती है।
दूसरी ओर दुमका से झामुमो के प्रत्याशी बसंत सोरेन की साझेदारी वाली फर्म ग्रैंड माइनिंग पर अवैध खनन के मुद्दे पर ₹14.05 करोड़ का फाइन लगाया गया था। प्रतुल शाहदेव ने कहा की यह फाइन अवैध खनन कर ज्यादा मूल्य के चालान बेचने की बात को आधार मानकर लगाया गया था।
प्रतुल ने बताया की तत्कालीन खान आयुक्त के आदेश पर तत्कालीन उपायुक्त ने पूरे मामले की रिपोर्ट दी थी।जिसके बाद यह फाइन लगाया गया। यह मामला पाकुड़ जिला अंतर्गत पाकुरिया अंचल के गोलपुर मौजा के प्लॉट 566 में दिए गए लीज से संबंधित है।
प्रतुल ने कहा की बसंत सोरेन को स्पष्ट करना चाहिए कि इस माइनिंग विभाग द्वारा लगाए गए इस फाइन की अद्यतन स्थिति क्या है? क्या इस मामले में न्यायालय के आदेश के अनुसार उन्होंने सेटल कर फाइन को जमा किया है या फिर बिना इस मामले को सेटल किए अभी भी यहां माइनिंग जारी है ?


क्या उन्होंने फाइन की किसी क़िस्त का भुगतान किया है या फिर बड़े भाई की सरकार आते ही मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया?
वहीं भाजपा चुनाव आयोग संपर्क विभाग के प्रदेश सह संयोजक सुधीर श्रीवास्तव ने भी बसंत सोरेन पर हमला बोला। कहा लॉकडाउन से पूरा राज्य त्रस्त था उस वक़्त 1 करोड़ 53 लाख का इन्वेस्टमेंट किया। जिन कंपनियों से उन्होंने लोन लिया उन कंपनियों के ओनर कौन है ये भी जवाब बसंत सोरेन के पास नहीं है।
झारखंड ब्यूरो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here