Tuesday, October 12, 2021
Homeबिहारसमस्तीपुरकिसानों की स्थिति खराब है. वे किसानी छोड़ने को मजबूर हैं। सरकार...

किसानों की स्थिति खराब है. वे किसानी छोड़ने को मजबूर हैं। सरकार की योजनाओं में लूट – भ्रष्टाचार भरा पड़ा है।

बिहार के समस्तीपुर जिले के ताजपुर में नव पदस्थापित कृषि समन्वयक का दो महीने बाद भी क्षेत्र भ्रमण क्यों नहीं- ब्रहमदेव प्रसाद सिंह।

किसान विरोधी तीनों कृषि कानून वापस लें मोदी सरकार- रवींद्र प्रसाद सिंह।
● वर्षा से बर्बाद फसल का फ़सल क्षति मुआवजा देने।
● ग्रामीण एवं बाजार क्षेत्रों से जल जमाव दूर करने।
● किसानों का केसीसी लोन माफ करने।
● कृषि समन्वयक एवं सलाहकारों का क्षेत्र
भ्रमण करने।
● नये फसल लगाने को किसानों को नि: शुल्क बीज,
खाद, कृषि संयत्र आदि देने।
● किसान विरोधी तीनों कृषि कानून वापस लेने।
● पशुपालकों को पशु शेड देने, पशुशेड में जारी
अनियमितता पर रोक लगाने समेत अन्य किसान हित की मांग को लेकर अखिल भारतीय किसान महासभा से जुडें किसानों में मोतीपुर वार्ड -10 से जुलूस निकाला जो संपूर्ण वार्ड का नारे लगाकर भ्रमण किया.
मौके पर अपने अध्यक्षीय संबोधन में महासभा के प्रखण्ड अध्यक्ष ब्रहमदेव प्रसाद सिंह ने कहा कि अनाज उत्पादक, पशुपालक, सब्जी उत्पादक, फल उत्पादक किसानों की स्थिति खराब है. वे किसानी छोड़ने को मजबूर हैं. उनकी योजनाओं में लूट- भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.


मजदूर नेता राजदेव प्रसाद सिंह ने कहा कि क्षेत्र के किसानों के अनाज एवं सब्जी की लहलहाती फसल वर्षा में बर्बाद हो गया है. खेत में अभी भी पानी लगा है. इससे अगली फसल लगाना भी असंभव है.
रविन्द्र प्रसाद सिंह, राजदेव प्रसाद सिंह, ललन दास, कैलाश सिंह, हित नारायण सिंह, मंजीत कुमार, रामबाबू सिंह, अनिल राय, विन्दा प्रसाद सिंह, मक्सूदन सिंह, प्रमेश्वर प्रसाद सिंह, मोतीलाल सिंह समेत अन्य किसानों ने कार्यक्रम में भाग लिया।
भाकपा माले प्रखण्ड सचिव सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि यदि उक्त मांग को यथासमय पूरा नहीं किया जाता है तो आंदोलन तेज किया जाएगा.

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments