Sunday, October 17, 2021
Homeबिहारअगमकुआं पटना में स्थित एक अनोखा स्मारक है,जो अपने ऐतिहासिक एवं आध्यत्मिक...

अगमकुआं पटना में स्थित एक अनोखा स्मारक है,जो अपने ऐतिहासिक एवं आध्यत्मिक खूबियों के लिए जाना जाता है।

आगम कुआँ, बिहार राज्य के पटना के बाहरी इलाके में पञ्च पहाडी के रास्ते पर गुलज़ारबाग रेलवे स्टेशन के समीप स्थित है। यह पटना के पूर्व और गुलज़ारबाग स्टेशन के दक्षिण-पश्चिम में है।

अगम कुआँ बिहार के पटना में स्थित एक प्राचीन और पुरातात्विक स्थल है। इस कुएँ का निर्माण चक्रवर्ती सम्राट अशोक मौर्य के द्वारा कराया गया है। आकार में परिपथ कुएँ का ऊपरी भाग 13 मीटर (43 फीट) में ईंट के साथ पंक्तिबद्ध है, और शेष 19 मीटर (62 फीट) में लकड़ी के छल्ले हैं।

अगमकुआं के प्रांगण में स्थित मंदिर के भीतर माता शीतला की मूर्ति स्थापित है। एवं सप्तमातृका का पिंड स्थापित है, जो चेचक के इलाज में हुए चमत्कारों के लिए प्रसिद्ध एवं पूजनीय है। वर्ष 1879 -80 में कनिंघम ने अपनी यात्रा के दौरान यह बताया कि यहां पर प्राचीन एवं मध्ययुगीन मूर्तियां थी।

जो मौर्य काल के यक्ष कला से संबंधित रखती थी। परन्तु अब इस कला का कोई भी अवशेष नहीं है।1890 के दशक में ब्रिटिश खोज़कर्त्ता लॉरेंस वेडेल ने पाटलिपुत्र के खंडहरों की खोज करते हुए अगमकुआँ को अशोक द्वारा बनाए गए पौराणिक कुएँ के रूप में पहचाना |

इस कुआँ के बारे में कहा जाता है कि उस समय यह कुआँ “उग्र कुआँ” या “धरती पर नरक” के रूप में भी जाना जाता था। किंवदंती में कहा गया है कि मौर्य साम्राज्य के सिंहासन को पाने के लिए अशोक ने अपने सभी सौतेले भाईयों के सिर काट दिए और इसी कुएँ में डाल दिये।
वर्तमान में अगमकुआं पुरे बिहार के लिए एक पवित्र स्थल के रूप में माना जाता है। लोग अपनी मनोकामना पूरा होने के लिए सिक्के डालते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

Recent Comments